वारेन बुफेट का जीवन परिचय | warren buffett biography in hindi

वारेन बुफेट बर्कशायर हैथवे कंपनी के मालिक तथा दुनिया के सबसे अमीर लोगों में से एक हैं यह एक निवेशक और परोपकारी व्यक्ति हैं | 2008 में जारी किए फ़ोब के सूची के अनुसार वारेन बुफेट दुनिया के अरबपति के सूची में शामिल हुए इनकी नेट वर्थ 2008 में जारी के डेटा के अनुसार 62 अरब अमेरिकी डॉलर मापी गई यह शेयर मार्केट के बहुत बड़े खिलाड़ी हैं इन्होंने शेयर मार्केट से अरबों की संपत्ति बनाई |

वारेन बुफेट का जीवन परिचय

वारेन बुफेट का जन्म 30 अगस्त 1930 ईस्वी को ओमाहा, नेब्रास्का नामक जगह पर हुआ था के पिता का नाम हावर्ड (Howard) तथा माता का नाम लीला (स्टाल) था वारेन बुफेट के पिता शेयर मार्केट की दुनिया मे पहले से ही कदम रख चुके थे |

वारेन बुफेट अपने बचपन के दिनों में कोका कोला की बोतल तथा च्युइंग गम और सप्ताहिक पत्रिका घर घर जाकर बेचा करते थे वारेन बुफेट पैसा को और निवेशिकता को अच्छी तरह समझते थे इसीलिए छोटी उम्र से ही उन्होने ने पैसे कमाने के लिए कई रास्तो को अपनाया और वो सफल भी रहे

वारेन बुफेट जब केवल 7 साल के थे तब उन्होंने ओमाहा पब्लिक लाइब्रेरी से कुछ किताबें उधार ली थी जिन्हें वे पढ़ा करते थे यह सभी किताबे निवेश और निवेशिकता पर आधारित थी | वारेन बुफेट बचपन से ही शेयर मार्केट में अपना दबदबा बनाने के लिए अपने पिता हावर्ड बुफेट के साथ दांवपेच सीखते और फिर उन्हे शयर मार्केट में आजमाते अपने पिता तथा गुरु का साथ पाकर वारेन शयर मार्केट मे अपना दबदबा बनाने मे सफल हो सके |

बेंजामिन ग्राहम एक जिन्होंने बारे में वारेन बुफेट को शेयर मार्केट की दुनिया में सफल किस प्रकार होना है इसके लिए तैयार किया | वारेन भी बेंजमीन को अपना गुरु मानते थे उनसे हमेशा कुछ ना कुछ सीखा करते थे वारेन बुफेट आज भी कहते हैं कि जो भी मैंने कुछ सीखा या पाया है उसमे 85%भाग मैंने बेंजामिन ग्राहम ग्रहण किया |

वारेन बुफेट कि शिक्षा व संघर्ष

वारेन बुफेट ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा रोज हिल एलिमेंट्री स्कूल से प्रारंभ की | वारेन बुफेट के पिता को अकस्मात वाशिंगटन, डीसी जाना पड़ा | इस करण वारेन बुफेट को स्कूल छोड़ना पड़ा वॉशिंगटन डीसी में जाने के बाद वॉरेन ने वहां के एक विद्यालय एलिस डील जूनियर हाई स्कूल दाखिला लिया | वह पर अपनी पढ़ाई को पूरा कने लगे |

वॉरेन बफेट ने 1947 में वुडरो विल्सन हाई स्कूल से स्नातक किया | वारेन बुफेट निवेश की नीतियों को समझने के लिए कॉलेज को छोड़ना चाहते थे लेकिन ऐसा उनके पिता ने करने से मना कर दिया | वारेन बुफेट ने यहां केवल 2 साल का अध्ययन किया उसके पश्चात इसी साल वह पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन मे प्रवेश ले लिया |

वारेन बुफेट निवेश तथा निवेश की नीतियों को भली-भांति समझना चाहते थे लेकिन उनके पिता का उन पर दबाव था अतः उन्होंने अल्फा सिगमा बिरादरी में शामिल हुए फिर उनका तबादला नेब्रास्का विश्वविद्यालय कर दिया गया

वारेन बुफेट ने इस विद्यालय में 11 साल तक अध्ययन किया और व्यवसाय प्रशासन में स्नातक की उपाधि को ग्रहण किया | इसके पश्चात हावर्ड स्कूल में दाखिला लेने की इच्छा की लेकिन वहां से वह खारिज हो गया | इसके पश्चात उन्होंने कोलंबिया यूनिवर्सिटी से बिजनेस डिग्री में भाग लिया

इसी विद्यालय में उनके गुरु बेंजामिन ग्राहम भी थे अतः वारेन बुफेट ने 1951 ईस्वी में कोलंबिया से अर्थशास्त्र में मास्टर ऑफ साइंस की उपाधि को ग्रहण किया | फिर उसके बाद वह निवेश तथा निवेश नीतियों में पूरी तरह बिलिंग हो गए |

वारेन बुफेट का महान निवेशक बनने का सफर

वारेन बुफेट की व्यापार और निवेश में रुचि बहुत थी वह अलग-अलग तरीकों से पैसा कमाने का तरीका निकलते रहते थे वह अपनी छोटी उम्र से ही पैसे को विभिन्न प्रकार से कमाया करते थे |

वारेन बुफेट अपने बचपन के दिनों में अपने दादा की दुकान में 25 सेंट मे खरीदी गई पिनबॉल मशीन को लगाया जिससे उन्होंने काफी अच्छे पैसे कमाए | वारेन बुफेट को इनकम होने लगी तो उन्होंने और पिनबॉल मशीन खरीदी | शहर के अलग-अलग दुकानों में नाई की दुकान में , किताबों की दुकान में ऐसी कई दुकानों में जहां लोग इकट्ठा होते हैं वारेन बुफेट ने अपने पिन कॉल मशीन को लगाया | इससे वारेन बुफेट को कुछ ही समय में बहुत ज्यादा नुनफा हुआ |

वारेन बुफेट अपने स्नातक की डिग्री वाले दिनों में अपने गुरु बेंजामिन ग्राहम से बहुत प्रभावित हुए | बेंजामिन ग्राहम एक निवेशक थे वह सभी छोटे और बड़े शेयर खरीदा करते | वारेन तथा बेंजामिन जब आपस मे वार्तालाप करते तो हमेशा निवेश तथा निवेशिकता की बात ही किया करते | फिर उन्होने भी अलग-अलग छोटे छोटे शेयरों को खरीदना शुरू कर दिया |

वारेन बुफेट के पिता शेयर मार्केट ब्रोकर थे अतः वारेन ने भी अपने पिता के साथ समय बिताना शुरू कर दिया और उनके कार्यालय में जाकर चीजों समझने का प्रयास शुरू कर दिया | 10 साल की उम्र में ही उन्होंने न्यूयॉर्क में घूमने का और स्टॉक को समझने का प्रयास कर दिया | 11 साल में वारेन बुफेट ने अपने पसंदीदा सर्विस के 3 शेयर खरीद लिए तथा तीन शेर अपनी बहन डोरिस बफेट के लिए भी खरीदें |

इस फील्ड में वारेन बुफेट की तरक्की होती ही जा रही थी | उन्होने अलग-अलग चीजों में निवेश करना शुरू कर दिए | इस कारण वारेन बफेट की संपत्ति में इजाफा होने लगा | उन्होंने 14 साल की उम्र में ही $1200 का एक खेत खरीद लिया | जब तक वारेन ने अपना कॉलेज खत्म किया तब तक वारेन बुफेट की संपत्ति काफी पढ़ चुकी थी उन्होंने $ 98000 कमाए |

वारेन बुफेट की उपलब्धियां

वारेन बुफेट दुनिया के सबसे अमीर आदमियों में शामिल हुए | उन्हें 2011 में राष्ट्रपति ओबामा द्वारा सम्मानित किया गया | इस समय वारेन बुफेट बर्कशायर हैथवे के अध्यक्ष हैं | अमेरिका की कई पत्रिकाओं ने वारेन बुफेट को 20 वीं सदी का सबसे महान निवेशक की उपाधि से नवाजा है |

वारेन बुफेट की उपलब्धियों में उनकी अपार संपत्ति तो शामिल है लेकिन उनका एक घर उनकी अपार संपत्तियों से भी बहुत ज्यादा है ऐसा वारेन बुफेट ने कहा यह घर उनके लिए सबसे प्रिय है | 2013 में वारेन बुफेट ने एक ऑप्टिकल कंपनी को 28 बिलीयन डॉलर में खरीदा

आगे चलकर वारेन बुफेट ने इतनी संपत्ति कमाई कि उन्होंने चैरिटी और संस्थाओं को दान करना शुरू कर दिया उन्होंने अपनी पत्नी के नाम पर भी एक चैरिटी को बनाया |
वारेन बुफेट के जीवन ने लोगो को बहुत प्रभावित किया अत: सभी लोग इनके जीवन से कुछ ना सीख सखे इस कारण वश इनके जीवन पर आधारित ऐक पुस्तक भी लिखी गयी |
इंसान की सबसे बड़ी उपलब्धि वह होती है कि वह संसार में अपना कितना नाम कमा पाता है | वारेन बुफेट ने अपना जीवन सफल कर दिया उन्होंने अपना नाम कमा लिया है |

वारेन बुफेट का परोपकार व दान

वारेन बुफेट एक निवेशक होने के साथ-साथ नरम ह्रदय के मालिक हैं | उन्होंने अपनी संपत्ति का बहुत बड़ा हिस्सा दान में दिया है। वारेन बुफेट ने चैरिटी और प्राइवेट संस्थाओं को अपनी संपत्ति का 46 बिलीयन डॉलर दान में दिया है

वारेन बुफेट के पास इतना अधिक पैसा है कि वह चैरिटी में दान करना अपना खर्च समझते हैं | वह कहते हैं कि दान करने से ही मैं पैसा खर्चा कर सकता हूं | उन्होंने 2016 में बिल एंड मेलिंडा फाउंडेशन को 2.9 बिलियन डॉलर दान में दे दिया अतः वारेन बुफेट में 2018 में फिर से बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन को दान दिया

उन्होंने सुसान थॉम्पसन बफेट फाउंडेशन को एक बहुत बड़ा दान दिया इस चैरिटी को उन्होंने अपनी पत्नी के नाम पर बनाया इस चैरिटी के जरिए उन्होंने महिलाओं, बुजुर्ग, दीन, दरिद्र ,गरीब सभी लोगों की मदद करने के लिए एक बड़ा दान दिया और उसे पूर्ण रूप से वितरित करने में भी सफल रहे |

यह इतने परोपकारी और धानी इंसान है कि जिसका उल्लेख करना असंभव सा हो जाता है | हाल ही में वारेन बुफेट ने अपनी संपत्ति का 99% दान करने का फैसला बना लिया और वह केवल 1% में ही अपना जीवन व्यतीत करेंगे |

वारेन बुफेट ने हाल ही में एक संस्था का निर्माण किया और उसमें दुनिया में उपस्थित सभी अरबपतियों को शामिल किया गया और उन्हें अपनी संपत्ति का 50 % देने के लिए तैयार होना था | यह योजना बहुत ही सफल हुई और कई मशहूर और बड़ी हस्तियों ने इस संस्था में अपना योगदान दिया उसमें शामिल है बिल गेट्स, मार्क जुकरबर्ग और ऐसे और भी कई अरबपति |

वारेन बुफेट का पारिवारिक जीवन

वारेन बुफेट एक सफल व्यक्तियों में से हैं वह अपने माता-पिता को बहुत ही चाहेते रहे उन्होंने अपने माता-पिता का बहुत ही सम्मान व आदर किया | जीवन भर उनके बताए हुए कदमों पर ही चलते आए हैं हालांकि कुछ परिस्थितियां उनके सामने ऐसी है | कई बार अपने माता-पिता का विरोध करना पड़ा लेकिन उन्होंने इन परिस्थितियों का सामना किया | आज एक सफल व्यक्ति के रूप में लाखों-करोड़ों लोगों के मार्गदर्शक बने हुए हैं |

वारेन बुफेट ने 1962 में सुसान थोम्प्सन से शादी कर ली | इसी दौरान उनके 3 बच्चे हुए जिनका नाम सुसी , हावर्ड और पीटर | 1977 ईस्वी में इन्होंने अलग अलग रहना शुरू कर दिया |
हालांकि जब 2004 में सुसान की मौत हो गई तब सभी परिवार एक हो गया एक साथ रहने लगा | उनकी पुत्री ओमाहा रहती और पिता के द्वारा शुरू किए गए फाउंडेशन सुसान फाउंडेशन मे धर्मार्थ के कार्यों को करा करती है |

2006 में अपने 76 के जन्मदिन पर इतने समय से अकेला रहने के कारण बस उन्होंने सुसान की दोस्त ऐस्ट्रिड मेंक्स जो कि एक 60 वर्षीय महिला थी उन्हीं के साथ रहने लगे | बाद में उन्होंने उसी महिला के साथ शादी कर ली | इस महिला से मुलाकात सबसे पहले उनकी अपनी पत्नी सुसान ने ही करवाई थी |

वारेन बुफेट के अनमोल विचार

  • मैं 7 फुट के अवरोध को पार करने की नहीं सोचता, मैं एक फुट का अवरोध ढूंढता हूँ जिसे मैं पार कर सकूँ।
  • साख बनाने में 20 साल लगते हैं और उसे गंवाने में बस पांच मिनट। अगर आप इस बारे में सोचेंगे तो आप चीजें अलग तरह से करेंगे।
  • मैं कभी शेयर बाजार से पैसे बनाने की कोशिश नहीं करता। मैं इस धारणा के साथ शेयर खरीदता हूँ कि बाजार अगले दिन बंद हो जाएगा और 5 साल तक नहीं खुलेगा।
  • अगर बिजनेस अच्छा करता है तो स्टाक खुद-बखुद अच्छा करने लगते हैं।
  • अपने से बेहतर लोगों के साथ समय बिताना अच्छा होता है। ऐसे सहयोगी बनाएं जिनका व्यवहार आपसे अच्छा हो, और आप उस दिशा में बढ़ जाएंगे।
  • एक शानदार कंपनी को उचित कीमत पर खरीदना एक उचित कंपनी को शानदार कीमत पर खरीदने से कहीं बेहतर है।
  • बाजार के उतार-चढ़ाव को अपना मित्र समझिए, दूसरों की मुर्खता से लाभ उठाईये, उसका हिस्सा मत बनिए।
  • मैं जिन अरबपतियों को जानता हूँ, पैसा बस उनके अंदर बुनियादी लक्षण लाता है। अगर वो पहले से मुर्ख थे तो अब वो अरबों डॉलर के साथ मुर्ख हैं।
  • सिर्फ वही खरीदिए जिसे आप खुशी के साथ अगले दस सालों तक होल्ड कर सकें।
  • ज्वार चले जाने के बाद ही पता चलता है कि कौन लोग नंगे तैर रहे थे।
  • हमारी पसंदीदा होल्डिंग पीरियड है-हमेशा के लिए।
  • कीमत वो है जो आप भुगतान करते हैं। मूल्य वो है जो आप पाते हैं।
  • जोखिम तब होता है जब आपको पता नहीं होता है कि आप क्या कर रहे हैं।
  • नियम नंबर एक कभी पैसा मत गंवाइए, नियम नंबर दो कभी नियम नंबर एक मत भूलिए।
  • अगर कोई आज पेड़ की छाव में बैठा है तो इस वजह से कि किसी ने बहुत समय पहले ये पेड़ लगाया होगा।
  • आज का निवेशक कल की बढ़त से फायदा नहीं कमाता।
  • समय अच्छी कंपनियों का मित्र होता है और औसत दर्जे की कंपनियों का दुश्मन।
  • वाल स्ट्रीट ही एक ऐसी जगह है जहाँ रोल्स रोयस से चलने वाले लोग सबसे जाने वाले लोगों से सलाह लेने आते हैं।
  • जब सभी लालची हो जाते हैं तो हम डर के रहते हैं, और जब सभी डर जाते हैं तब हम लालची बन जाते हैं।
  • एकल आय पर निर्भर कभी नहीं रहना चाहिए। दूसरा स्त्रोत बनाने के लिए निवेश करें।
  • अगर आप मानव जाति की सबसे खुशनसीब 1% में हो, तो तुम अन्य 99% के बारे में सोचने के लिए शेष मानवजाति के ऋणी हो।
  • निवेश के मूल विचार शेयरों को व्यवसाय के रूप में देखना, बाजार के उतार-चढ़ाव का अपने लाभ के लिए उपयोग करना और सुरक्षा के मार्जिन की तलाश करना है । बेन ग्राहम ने हमें यही सिखाया है। अब से सौ साल बाद भी वे निवेश की आधारशिला रहेंगे।

FAQ कुछ प्रमुख प्रश्न

वारेन बुफेट कौन है ?

शयर मार्केट तक्ष निवेशकर और 20 वीं सदी के सबसे बड़े निवेश कारी व्यक्ति हैं और यह एक परोपकारी भी व्यक्ति हैं उन्होंने अलग-अलग शेयर मार्केट मैं इन्वेस्ट किया और उससे बहुत ही पैसा कमाया है इन्हें बीसवीं सदी का महान निवेशक के रूप मे देखा जाता है |

वारेन बुफेट के गुरु का क्या नाम है ?

बेंजामिन ग्राहम को वारेन बुफेट अपना गुरु मानते हैं वह कहते हैं कि उनका 85% हिस्सा मेरे अंदर है और उसे ही मैं अपने निवेश नीतियों में इस्तेमाल करता हूं |

वारेन बुफेट के कितने बच्चे व उनके क्या नाम है ?

वारेन बुफेट के तीन बच्चे हैं और उनका नाम सूसी, हावर्ड और पीटर है |

वारेन बुफेट की कुल कितनी संपत्ति है ?

2021 में वारेन बुफेट की कुल संपत्ति 10,310 करोड़ डॉलर मापी गयी |

वारेन बुफेट की पत्नी का क्या नाम है ?

वारेन बुफेट की पत्नी का नाम सुसान थोम्प्सन है |

वारेन बुफेट का जन्म कब हुआ ?

वारेन बुफेट का जन्म 30 अगस्त 1930 में हुआ

1 thought on “वारेन बुफेट का जीवन परिचय | warren buffett biography in hindi”

Leave a Comment