दिव्या भारती का जीवन परिचय | Divya Bharti Biography In Hindi

Divya Bharti Biography In Hindi के इस भाग मे आप जन्म, प्रारम्भिक जीवन, शिक्षा ,फिल्मी करियर,उपलब्धियां , मृत्यु , म्रत्यु से जुड़ी कुछ तथ्य , जैसे सभी पहलू को जनेगे |

दिव्या भारती का जन्म 14 फरवरी 1974 मुंबई में ही हुआ था | दिव्या भारती 90 के दशक की एक मशहूर अभिनेत्री थी | इन्होंने अपने अभिनय की शुरुआत तेलुगु तथा कन्नड़ फिल्मों से की | 90 के दशक में दिव्या भारती ने तेलुगु फिल्म दो बोब्बिली राजा से 1990 में शुरुआत की | फिर यह फिल्म इंडस्ट्री में आ गई |

दिव्या भारती शुरुआती दिनों से मुंबई में रहती थी | इनके पिता का नाम ओम प्रकाश भारती तथा माता का नाम मीराभारती था पिता ओमप्रकाश एक बीमा एजेंट थे | इनके पिता ने दो शादियां की तथा दिव्या भारती दूसरी शादी से हुई सबसे बड़ी लड़की थी |

दिव्या भारती शुरू से ही फिल्मी दुनिया में कदम रखना चाहती थी | अतः उन्हें छोटी उम्र से ही फिल्मों के ऑफर आने लगे थे । उन्हे 14 साल की उम्र में ही फिल्मों के कई औफ़र मिले ।

दिव्य भारती बहुत छोटी उम्र से ही फिल्म इंडस्ट्री में काम करने लगी अतः छोटी उम्र से ही काम करने की वजह से वह ज्यादा पढ़ ना सकी | उन्होने केवल कक्षा 10 तक Maneckji Cooper High School से पढ़ाई की |

नामदिव्या भारती
निक्कनेमदिव्या
प्रोफेसनअभिनेत्री
शिक्षा10 पास
जन्मतिथि14 फरवरी 1974
मृत्यु1993
जन्मस्थानमुंबई, महाराष्ट्र, भारत
राष्ट्रीयताभारतीय
वैवाहिक स्थितिविवाहित
राशिमीन
उम्र19 मृत्यु
धर्महिंदू
माता मीराभारती
पिताओम प्रकाश भारती
पतिसाजिद न्डियादवाला (Sajid Nadiadwala)
शौकगायन, नृत्य, किताबें पढ़ना थे

दिव्या भारती का पारिवारिक जीवन

जब शोला और शबनम की शूटिंग चल रही थी तभी दिव्या भारती की मुलाकात साजिद नाडियावाला से हुई | जो की एक मशहूर निर्देशक तथा डायरेक्टर हैं और यह फिल्में डायरेक्ट करते हैं | मुलाकात होने के बाद दिव्या भारती और साजिद नाडियावाला में नजदीकियां बढ़ने लगी और यह एक दूसरे से प्यार करने लगे | 10 मई 1992 को दिव्या भारती ने साजिद नाडियावाला से शादी कर ली | शादी करने की वजह से दिव्या भारती को अपना नाम बदलना पड़ा उसका नाम दिव्या भारती से बदलकर सना नाडियाडवाला कर दिया गया |

Divya Bharti father and mother
Divya Bharti father and mother

दिव्या भारती की मृत्यु पर उठे कुछ सवाल विवाद व अफवाह

सन 1993 में होटल की छत से नीचे गिरने की वजह से दिव्या भारती की मृत्यु हो गई |

दिव्या की मौत का क्या कारण रहा | यह अभी तक नहीं पता चल पाया है ना आगे शायद पता चल पाएगा | अखबार के अनुसार , उस रात 10:00 बाजा होगा दिव्या के घर पर उसकी एक नौकरानी और नीता लुल्ला और उसके पति थे और दारू पार्टी चल रही थी |

करीब 1 घंटे बाद नौकरानी किचन में खाना बनाने चली गई | नीता और उसके पति टीवी देखने लगे तभी दिव्या भारती अपनी खिड़की से कुछ देखने की कोशिश कर रही थी लेकिन अचानक उसका पैर फिसल जाने की वजह से वह खिड़की से नीचे गिर जाती है | उस खिड़की में एक भी ना जाली है और ना ही कोई अवरोध था अतः पैर करने की वजह से वह नीचे गिरती है |

नीचे गिरने की वजह से वह लहूलुहान हो जाती है और तुरंत ही उसको रीजेंसी हॉस्पिटल में ले जाया जाता है और वहां पर दम तोड़ देती है |

divya bharti ki mrutyu
divya bharti ki mrutyu

उस रात ऐसा क्या हुआ था क्या दिव्या भारती का पैर फिसला था या फिर वह किसी परेशानी की वजह से कूद गई | इस बात की पुष्टि अभी भी नहीं हो पाई है पुलिस ने छानबीन ने बहुत की लेकिन कोई भी निर्णय नहीं हो पाया |

1993 ईस्वी में एक मशहूर अभिनेत्री का इस दुनिया से विदा हो गयी | दिव्या भारती हम सब की बहुत प्यारी थी और आज भी जब उनकी फिल्में देखते हैं तो ऐसा लगता है कि वह हमारे पास है |

दिव्या भारती का फिल्मी करियर का सफर

दिव्या भारती का फिल्मी करियर बहुत बड़ा नहीं रहा वह कम दिनों में अपना नाम कमा कर इस दुनिया से चली गई | आप इस लेख में यह जान पाओगे कि उसकी मृत्यु कब हुई और कब से दिव्या भारती ने फिल्मी करियर की शुरुआत की |

सिर्फ 14 साल में ही दिव्या भारती ने अपना फिल्मी करियर शुरुआत कर दिया था | उन्होंने 1990 में एक तेलुगू फिल्म बोब्बिली राजा से अपने करियर की शुरुआत की थी | साल 1992 में फिल्म विश्वात्मा से दिव्या भारती को सफलता मिली | इस फिल्म में एक गाना था सात समुंदर पार में तेरे पीछे पीछे आ गया इस गाने ने बड़ा मुकाम हासिल किया और सुपरहिट रहा | इसी गाने की वजह से दिव्या भारती को सफलता की सीढ़ियों ने छूना शुरु कर दिया |

अब दिव्या भारती को इंडस्ट्री में पहचान की जरूरत नहीं रही | अब वह बहुत प्रसिद्ध हो गए चुकी थी | उसके बाद विभिन्न फिल्मों के ऑफर आने लगे | अगली फिल्म, दिव्या भारती ने गोविंदा के साथ की | शोला और शबनम यह फिल्म ने रिकॉर्ड तोड़ दिया |

1990 में फिल्म करियर शुरुआत करने वाली दिव्या भारती 1993 में होटल की छत से नीचे गिर जाने की वजह से मौत हो गई | अतः महज 3 सालों मैं ही दिव्या भारती ने अपना परचम पूरी बॉलीवुड इंडस्ट्री में लहरा दिया |

इस समय तक दिव्या भारती ने पूरी इंडस्ट्री में अपना दबदबा बना लिया था | सभी एक्टर और एक्ट्रेस दिव्या भारती के साथ काम करना चाहते थे | वह अपने अभिनय में 100% रंग दिखा रही थी | जिससे डायरेक्टरों को और फिल्म में ताबड़तोड़ कमाई हो रही थी इन्हीं सब कारणों की वजह से दिव्या भारती थोड़े ही समय में लोगों तथा फिल्म बनाने वालों की पहली पसंद बन गई |

फिल्मफिल्म का हिस्सा होने का समय
बोब्बिली राजा1990
राउडि अल्लुडु1991
दिल का क्या कसूर1992
जान से प्यारा1992
गीत1992
बलवान1992
दिल ही तो है1992
दुश्मन ज़माना1992
विश्वात्मा1992
दिल आशना है1992
दीवाना1992
शोला और शबनम1992
धर्म क्षेत्रम1992
रंग1992
क्षत्रिय1993
शतरंज1993
अंधा इंसाफ़1993
थोली मुद्धू1993

दिव्या भारती उपलब्धियां कथा सम्मान

दिव्या भारती का फिल्मी करियर बहुत ही छोटा रहा | उन्हें ज्यादा सम्मान ना मिल सका हालांकि वह सम्मान के भागीदार जरूर थी लेकिन अकस्मात मृत्यु की वजह से वह ज्यादा पुरस्कार नहीं जीत सकी । उन्हें 1993 में फिल्म फेयर अवार्ड से सम्मानित किया गया |

अंतिम शब्द

आशा करते हैं कि इस अध्याय के माध्यम से आपको दिव्य भारती के जीवन, शिक्षा, मृत्यु रहस्य, कैरियर, अभिनय कौशल और उनकी अन्य कार्यक्षेत्रों में योगदान के बारे में उपयोगी जानकारी मिली होगी । लेख मे बने रहने के लिए धन्यबाद !

ये भी पढे ……….

FAQ…….

दिव्या भारती का जन्म कब हुआ ?

दिव्या भारती का जन्म 14 फरवरी 1974 में हुआ था

दिव्या भारती की मृत्यु कब हुई ?

भारती की मृत्यु 5 अप्रैल 1993 में में हुई थी |

दिव्या भारती के माता पिता का क्या नाम था ?

भारती के पिता का नाम ओमप्रकाश भारती और माता का नाम मीरा भारतीय था |

Leave a Comment